Monday, 24 October 2016

Dhun Zindagi Ki - One Line Story by Anuj Pareek

·        ख्वाहिशों के दाने

आशा की एक किरण जीने की एक राह...

वो मकसद ज़िन्दगी का बदल गया

हंस कर सहे हर दर्द तेरे

अलग है कुछ मेरे दिल की कहानी...

4 comments: