Pages

Tuesday, 21 February 2017

हालात ऐ दिल बयां करुं या बात करुं- अनुज पारीक


आज सुबह-सुबह मन उदास है।
हालात ऐ दिल बयां करुं या बात करुं 
दिल तो करता है गुफ्तगुं करने को 
हालात ऐ दिल बयां करुं या बात करूं ।
                                                             अनुज पारीक 
धुन ज़िन्दगी की 
कविता की धुन 
धुन कविता की 

No comments:

Post a Comment